Skip to main content

Coronavirus Vaccine पर घमासान: US, UK, कनाडा ने रूस पर लगाया रिसर्च की 'साइबर चोरी' का आरोप

Coronavirus Vaccine News: कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका और ब्रिटेन ने रूस पर साइबर हमले का आरोप लगाया है। दोनों देशों ने कनाडा के साथ मिलकर दावा किया है कि रूस की खुफिया एजेंसियों के लिए काम करने वाला ग्रुप Cozy Bear रिसर्च संस्थानों पर हमले कर रहा है और Intellectual Property चुराने की कोशिश कर रहा है।

लंदन
एक ओर जहां पूरी दुनिया के वैज्ञानिक, डॉक्टर और रिसर्चर कोरोना वायरस का तोड़ खोजने में लगे हैं, अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा ने रूस पर वैक्सीन रिसर्च चोरी करने की कोशिश का आरोप लगाया है। तीनों देशों का दावा है कि रूस मेडिकल संगठनों और यूनिवर्सिटीज पर साइबर हमले कर रिसर्च चुराने की कोशिश कर रहा है। वहीं, क्रेमलिन ने इस आरोप का खंडन किया है। खास बात यह है कि अमेरिका और ब्रिटेन के अलावा रूस ने भी दावा किया है कि उसकी कोरोना वायरस वैक्सीन शुरुआती ट्रायल में असरदार निकली है।
हमलों के पीछे Cozy Bear नाम का ग्रुप
तीनों देशों का कहना है कि रूस इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी चुराने की कोशिश में साइबर हमले कर रहा है ताकि वह सबसे पहले या उनके साथ-साथ ही कोरोना वायरस वैक्सीन विकसित कर सके। तीनों ने गुरुवार को एक संयुक्त बयान जारी कर दावा किया है कि APT29 (Cozy Bear) नाम के हैकिंग ग्रुप ने अभियान छेड़ रखा है। सिक्यॉरिटी चीफ का दावा है कि यह ग्रुप रूस की खुफिया एजेंसियों का हिस्सा है और क्रेमलिन के इशारे पर काम करता है।
'नहीं स्वीकार किया जाएगा रूस का हमला'
अभी तक इस बारे में जानकारी नहीं दी गई है कि ये साइबर हमले कहां किए गए हैं लेकिन माना जा रहा है कि फार्मासूटकिल और ऐकडेमिक संस्थानों को निशाना बनाया गया है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस आधिकारिक बयान से कूटनीतिक स्तर पर तनाव बढ़ सकता है जो पहले से ही ब्रिटेन और रूस के बीच गहराया हुआ है। ब्रिटेन के विदेश मंत्री डॉमिनिक राब ने कहा है कि सहयोगियों के साथ मिलकर इन हमलों के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की महामारी से लड़ रहे संस्थानों पर रूस की खुफिया एजेंसियों का हमला करना स्वीकार नहीं किया जाएगा।

इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी चुराने की कोशिश
ब्रिटेन के नैशनल साइबर सिक्यॉरिटी सेंटर (NCSC) ने दावा किया है कि Cozy Bear रूस की खुफिया एजेंसियों का हिस्सा है। NCSC का कहना है कि इन हमलों में सरकारी, कूटनीतिक, थिंक-टैंक, हेल्थकेयर और एनर्जी से जुड़े संस्थानों को निशाना बनाया जा रहा है ताकि इंटलेक्टुअल प्रॉपर्टी चुराई जा सके। इस दावे का अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्यॉरिटी, साइबर सिक्यॉरिटी इन्फ्रास्ट्रक्चर सिक्यॉरिटी एजेंसी, नैशनल सिक्यॉरिटी एजेंसी और कनाडा के कम्यूनिकेशन सिक्यॉरिटी इस्टैबलिशमेंट ने भी समर्थन किया है।
गौर करने वाली बात यह है कि कोरोना वायरस वैक्सीन के मामले में तीनों देशों को शुरुआती सफलता मिली है। ब्रिटेन की ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और Astrazeneca की वैक्सीन ChAdOx1 nCoV-19 (अब AZD1222) के इंसानों पर किए गए सबसे पहले ट्रायल में ऐंटीबॉडी और वाइट ब्लड सेल्स (Killer T-cells) विकसित होते पाए गए। वहीं, अमेरिका की Moderna Inc की वैक्सीन mrna1273 के ट्रायल में भी ऐंटीबॉडी पाई गईं। वहीं, रूस भी अपनी एक्सपेरिमेंटल कोरोना वायरस वैक्सीन की 20 करोड़ डोज बनाने की तैयारी में है। रिसर्चर्स ने पाया है कि यह इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है और प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित कर रही है। हालांकि, यह प्रतिक्रिया कितनी मजबूत है, इसे लेकर संशय है।


Comments

Popular Posts

एरनकरो से पैसे केसे कमाए / How to earn money on Earnkaro

प्रकाशक: कैशकरो मूल्य: नि: शुल्क App के बारे में अर्नकरो एक ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म है, जहाँ आप अमेजन, फ्लिपकार्ट, माइन्ट्रा, जबॉन्ग, आदि या किसी भी अन्य अर्नकरो भागीदार साइट से सौदे साझा करके कमा सकते हैं। तकनीकी रूप से, यह अमेज़ॅन संबद्ध या फ्लिपकार्ट सहबद्ध बनने के बजाय सहबद्ध विपणन का एक बेहतर तरीका है • शून्य निवेश आपको पैसे खर्च करने या डिलीवरी आदि पर कुछ भी खरीदने की ज़रूरत नहीं है। ईयर क्र्रो ऐप में निवेश की ज़रूरत नहीं है, आपको बस समय बिताना होगा और आपको अधिक से अधिक यू लिंक लिंक करना होगा। • भुगतान विकल्प आप सीधे बैंक खाते में धनराशि स्थानांतरित कर सकते हैं या अपने कमाए कैरो शेष को अमेज़ॅन या फ्लिपकार्ट उपहार कार्ड में भुना सकते हैं • उच्च बटेर उत्पादों शीर्ष ब्रांडों या अमेज़न, फ्लिपकार्ट, Myntra आदि जैसे विश्वसनीय खुदरा विक्रेताओं से उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद प्राप्त करें इस वेबसाइट का उपयोग करने के लिए कैसे करें • सामाजिक प्लेटफॉर्म पर उत्पादों को साझा करने के बहुत सरल प्रिंसिपल पर यह काम जैसे - व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, फेसबुक आदि। • प्रोडक्ट्स लिंक को कमाओ कारो स…

Lucknow Coronavirus News Update: लखनऊ में फिर टूटा कोरोना का रिकॉर्ड, एक दिन में 384 लोगों में मिला वायरस; अब तक 3915 संक्रमित

Lucknow Coronavirus News Update: लखनऊ में फिर टूटा कोरोना का रिकॉर्ड, एक दिन में 384 लोगों में मिला वायरस; अब तक 3915 संक्रमित लखनऊ, जेएनएन। Lucknow Coronavirus News Update: उत्तर प्रदेश में कोरोना की स्थिति भयावह बनी हुई है। रविवार को राजधानी में एक बार फिर कोरोना का रिकॉर्ड टूटा। एक दिन में 384 लोगों में वायरस की पुष्टि हुई है। बीते दिन मंत्री-आइपीएस अफसर समेत 224 में कोरोना की पुष्टि हुई है। वहीं, अब शहर में कुल 3915 कोरोना संक्रमित हो गए हैं।  जबकि 48 लोगों की मौत हो चुकी है। मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने के लिए जद्दोजहद भी करनी पड़ रही है। मरीजों की घंटों अस्पताल में शिफ्टिंग नहीं हो पा रही है।तीन लखनऊ व एक बिहार के मरीज की मौत राजधानी के मालवीय नगर निवासी 36 वर्षीय पुरुष की तबियत खराब हो गई। उसकी जांच में काेरोना की पुष्टि हुई। 16 जुलाई को मरीज को केजीएमयू भर्ती कराया गया। संस्थान के प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक मरीज में डायबिटीज व बीपी की समस्या थी। ऐसे में कार्डियो पल्मोनरी अरेस्ट हो गया। वेंटिलेटर पर इलाज के दरम्यान मरीज की सांसें थम गईं। वहीं लाल कुआं निवासी 65 वर्षी…